16 जनवरी, 2018

अलाव


सर्द हवाओं के झोंकों से ठण्ड बढ़ी
ठिठुरते लोग सड़क पार तम्बू में ठहरे 
फटे बिस्तर में दुबके लोग 
पर बच्चों की चंचल वृत्ति 
खींच लाई उन्हें सड़क पर 
जल्दी-जल्दी निकालीं छोटी-छोटी लकड़ियाँ
पोलीथीन में रखी सूखी पत्तियाँ
माचिस जलाई व आग लगाई 
की बहुत मशक्कत अलाव जलाने में 
धीरे-धीरे सुलगा अलाव 
धुआँ उठा, लौ निकली 
चमकने लगे सुलगते अंगारे 
और बढ़ने लगी थोड़ी-थोड़ी गर्मी 
आ गयी चेहरों पर सुर्खी 
बच्चों के प्रयत्नों की ! 
जब आई बच्चों की आवाज़ 
झाँक कर बाहर देखा 
फेंकी चादर, निकले बाहर 
देख कर जलताअलाव !
हुआ गर्व बालकों पर 
उनकी सूझ बूझ से कुछ तो राहत पाई 
आते जाते हाथ सेंकते 
सड़क पर चलते लोग 
और बढ़ जाती बच्चों की 
आँखों में चमक और अधरों पर मुस्कान ! 


आशा सक्सेना 



14 जनवरी, 2018

क्षणिकाएं



आपने अफसाना अपना सुनाया
सभी के दिलों को बहकाया
जब अपने पास बुलाया
कुछ पलों को थमता सा पाया
आपके शब्दों की कसक
कानों में गूंजती रही वर्षों तक !

दीप जलाया मन मंदिर में 
हवा के झोंके सह न सका
था बुझने के कगार पर
अंतर्वेदना तक प्रगट न कर पाया
कसमसाया भभका और बुझ गया !



आशा

09 जनवरी, 2018

सकारात्मक सोच


positivity - abstract pics के लिए इमेज परिणाम

केवल अधिकारों की देते हैं जानकारी 
पर कर्तव्यविहीन हो रही सोच हमारी 
खुल कर बोलना है अधिकार हमारा 
कब बोलना, कहाँ बोलना व विवादों को 
देना निमंत्रण क्या दुरुपयोग नहीं ! 
हँसना हँसाना लगता तो है भला 
पर कटु भाषण और व्यंगाबाण 
मन पर करते प्रहार 
संतुलित आचरण रहा तो रिश्ते संवरें 
पर बिना बात के ताने 
मन की सुख शान्ति हर ले जाएँ 
है यह स्वयं का विवेक 
हम किस मार्ग पर जाएँ 
कहीं संस्कारविहीन नहीं हुए हों 
अच्छी सोच हो खिले पुष्पों की तरह 
जो खुद तो महके ही अपने 
आस पास को भी चमन बना दे
खुशबू दिग्दिगंत तक जाए ! 


आशा सक्सेना 






04 जनवरी, 2018

एक वादा खुद से




है वादा अपने आप से 
इस वर्ष के लिए 
है यह पहला वादा 
शायद यह तो पूरा 
कर ही सकते हैं ! 
अधिक की अपेक्षा नहीं की 
आज तक कभी
ज़िंदगी की आख़िरी साँस तक !
यह कुछ कठिन तो नहीं ! 
बस खुद पर संयम ही 
काफी है इसके लिए ! 
नया कभी चाहा ही नहीं !
मन पर नियंत्रण से 
निकाल दो नकारात्मक 
विचारों को 
फिर देखो प्रभाव मन पर ! 


आशा सक्सेना 



31 दिसंबर, 2017

हे नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है !

Happy new year 2018 pics के लिए इमेज परिणाम

हे नव वर्ष 
तुम्हारा स्वागत मेरे दर पर 
कबसे राह तुम्हारी जोह रही 
बहुत स्नेह से आज को विदा किया है 
अब आई तुम्हारे स्वागत की बारी 
प्रथम करण आदित्य की 
बैठी पलक पसारे 
तुम्हारी बाट निहारे 
ओस कणों से पैर पखारे 
कोमल कोंपल वृक्ष वृन्द संग 
पलक पांवड़े बिछाए 
तन मन धन से करे स्वागत 
तुम्हें विशेष बनाए 
सारा साल खुशियों से भरा हो
भाईचारा आपस में रहे 
यही मेरा मन कहे 
सुख सम्पदा भरपूर रहे 
पूरी श्रद्धा से सम्पूर्ण वर्ष 
प्रसन्नता से भर जाए ! 

नव वर्ष की आप सभीको हार्दिक शुभकामनाएं !

आशा सक्सेना  


25 दिसंबर, 2017

असंतोष





एक तो परिवार बड़ा
उस पर बेरोजगारी की मार
श्वास लेना भी है दूभर
आज के माहोल में
जीवन कटुता से भरा
कहीं प्रेम न ममता 
हर समय किसी न किसी की बात 
पर असंतोष ही उभरता मस्तिष्क  में
यूं ही छत पर
धीरे धीरे समय बीत जाता
 पञ्च तत्व में विलीन हो  जाता 
वह यादों में सिमिट कर रह जाता |
आशा

10 दिसंबर, 2017

असमंजस



वह झुकी-झुकी पलकों से 
कनखियों से देखती है 
बारम्बार तुम्हें !
हैं जानी पहचानी राहें 
पर भय हृदय में रहता है 
कहीं राह से दूरी न हो जाए !
कोई साथ नहीं देता बुरे समय में 
जब भी नज़र भर देखती है 
यही दुविधा रहती है 
कहीं राह न भूल जाए ! 
पर ऐसा नहीं होता 
भ्रम मात्र होता है ! 
भ्रमित मन भयभीत बना रहता 
जिससे उबरना है कठिन 
जब कोई नैनों की भाषा न पढ़ पाए
अर्थ का अनर्थ हो जाता !
इससे कैसे बच पायें 
है कठिन परीक्षा की घड़ी 
कहीं असफल न हो जाए 
जब सफलता कदम चूमे 
मन बाग़-बाग़ हो जाए 
जब विपरीत परीक्षाफल आये 
वह नतमस्तक हो जाए 
निगाहें न मिला पाए ! 


आशा सक्सेना